मन की आंखों से देखा …

मन की आंखों से देखा था
और न कोई चाहत थी
एक प्यासी नदिया के तट पर
अरमानो की आहट थी..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *