चाहे जिधर से गुज़रिय…

चाहे जिधर से गुज़रिये
मीठी सी हलचल मचा दिजिये,

उम्र का हरेक दौर मज़ेदार है
अपनी उम्र का मज़ा लिजिये…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *