ना गुल खिले हैं, …

ना गुल खिले हैं,
ना उन से मिले हैं,
ना मैं ने पी है…
अजीब रंग में…
अब के बार, बहार गुज़री है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *