क्यों न आज गमों को, …

क्यों न आज गमों को,
बेवकूफ बनाया जाए,

दर्द कितना भी हों ज़िन्दगी में
जम के मुस्कराया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *