मोहब्बत को समझना है …

मोहब्बत को समझना है तो नासेह ख़ुद मोहब्बत कर
किनारे से कभी अंदाज़ा-ए-तूफ़ाँ नहीं होता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *