ताकत अपने लफ़्ज़ों म…

ताकत अपने लफ़्ज़ों में डालों,
आवाज़ में नहीं,

क्यूँकि फसल बारिश से उगती है
बाढ़ से नहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *