जो मेरा नहीं मैं उसक…

जो मेरा नहीं मैं उसकी तलब क्यों करू।
दूर से आँखों को सुकून ही बहुत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *