यूँ तो भीड़ क़ाफी …

यूँ तो ‘भीड़’ क़ाफी हुआ करती थी..
महफ़िल में मेरी..!
फिर.. मैं ‘सच’ बोलता गया..
और लोग ‘कम’ होते गए…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *