अपने अनुसार चलने में…

अपने अनुसार चलने में,
उतनी ग़लतियाँ नहीं होतीं,
जितनी
दूसरों को देखकर,
चलने में होती हैं…..!!!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *