जिस नजाकत से लहरें प…

जिस नजाकत से लहरें
पैरों को छूती है,

यकीन नहीं होता,
इन्होने कभी कश्तियाँ डुबाई होंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *