क़िस्सों की ख़ामोशिय…

क़िस्सों की ख़ामोशियाँ हैं रूहानी
जबसे जिक्र छिड़ा है तेरा,
हवा भी नशे में लड़खड़ा रही है!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *