घर की इस बार, मुकम्म…

घर की इस बार, मुकम्मल तलाशी लूंगा!

पता नहीं ग़म छुपाकर

हमारे मां बाप कहां रखते थे…?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *