रोज़ रोज़ जलते हैं, …

रोज़ रोज़ जलते हैं,
फिर भी खाक़ न हुए,

अजीब हैं कुछ ख़्वाब भी,
बुझ कर भी राख़ न हुए…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *