सहम सी गई हैं सारी ख…

सहम सी गई हैं सारी ख्वाहिशें अब कुछ,
जरूरतों का दबदबा घर में कुछ ज़्यादा है..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *