क्या बेचकर हम तुझे ख…

क्या बेचकर हम तुझे खरीदें,
ऐ….ज़िन्दगी,

सब कुछ तो गिरवी पड़ा है, ज़िम्मेदारी के बाज़ार में…!!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *