दूरियों का ग़म नहीं …

दूरियों का ग़म नहीं अगर “फ़ासले” दिल में न हो।

“नज़दीकियां” बेकार हैं अगर जगह दिल में ना हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *