प्रेम एक सुबह है तो …

प्रेम एक सुबह है तो प्रेम एक शाम है,
प्रेम से मुलाकात ही प्रेम का नाम है !
प्रेम एक छांव है तो प्रेम चारों धाम है,
प्रेम एक तृष्णा है तो प्रेम शब्द बाण है !
प्रेम ही अर्पण त्याग, श्रद्धा से बलिदान है,
प्रेम ही ज्ञान, विज्ञान व मन्त्र का विधान है !
प्रेम की परिभाषा में संगीत, अनु-राग है,
प्रेम तो सुख दुःख और सर्वस्व, निर्वाण है !
प्रेम ही तो बांसुरी की मधुर मीठी तान है,
प्रेम की अमर कहानी प्रेम का प्रमाण है !
प्रेम ही छंद, ताल और नयनों का संवाद है !
प्रेम एक गजल, दोहा, सवैया, अलंकार है,
प्रेम ही दिव्य दृष्टि, राधे-श्याम का नाम है !
प्रेम ही उपासना और प्रेम भक्ति भाव है…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *