समय को फूल समझो पल प…

समय को फूल समझो
पल पल झड़ते रहेंगे
तुम पेड़ बनो
रोज़ नए उगाते रहो ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *