आसानी से नही मिलता, …

आसानी से नही मिलता, ये शौहरत का जाम’

काबिल-ए-तारीफ़ होने के लिए
वाकिफ़-ए-तकलीफ़ होना पड़ता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *