लफ़्ज़ों में ज़ाहिर …

लफ़्ज़ों में ज़ाहिर करूं तो मेरे ख्वाहिश की तौहीन होगी,
तू मेरी रूह में उतर के समझ ले मेरी हसरतों को..!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *