लफ़्ज़ों की दहलीज पर, …

लफ़्ज़ों की दहलीज पर, घायल ज़ुबान है !

कोई तन्हाई से तो कोई, महफ़िल से परेशान है !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *