कुछ तो पढ़ी लिखी होग…

कुछ तो पढ़ी लिखी
होगी ये गर्मी….
वरना इतनी डिग्रियाँ
लेकर कौन घूमता हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *