मेरे मिज़ाज को समझने…

मेरे मिज़ाज को समझने के लिए,
बस इतना ही काफी है,
मैं उसका हरगिज़ नहीं होता…..
जो हर एक का हो जाये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *