फैली हुई हैं सपनों क…

फैली हुई हैं सपनों की बाहें, आजा चल दें कहीं दूर
वही मेरी मंज़िल वहीं तेरी राहें, आजा चल दें कहीं दूर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *