गलतफहमियों के सिलसिल…

गलतफहमियों के सिलसिले,
इतने दिलचस्प हो गए हैं।।

की हर ईंट सोचने लगी है,
दीवार मुझ पर टिकी है।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *