टूटे थर्मस सा हुआ, अ…

टूटे थर्मस सा हुआ, अब अपनों का प्रेम..!
भीतर बिखरा काँच है, बाहर सुन्दर फ्रेम..!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *