हादसे इतने हैं मेरे …

हादसे इतने हैं मेरे वतन में कि …

अखबारों को निचोड़ो तो
खून निकलता है..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *