हमेँ कँहा मालूम था क…

हमेँ कँहा मालूम था क़ि इश्क़ होता क्या है,

बस एक ‘तुम’ मिले और ज़िन्दगी मुहब्बत बन गई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *