रुतबा

“रुतबा” तो..
खामोशियों का होता है……

“अल्फ़ाज़” का क्या ?

वो तो ……
बदल जाते हैं, अक्सर
“हालात” देखकर…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *