तारीफ़

खुल कर तारीफ़ भी किया करो,
दिल खोल हँस भी दिया करो,

क्यूँ बाँध के ख़ुद को रखते हो,
पंछी की तरह भी जिया करो..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *