आजमाया है आज फिर हवा…

आजमाया है आज फिर हवाओं ने तो गिला कैसा..!

वो कौन सा दौर था जब आंधियो ने चिरागों के इम्तिहान ना लिए….!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *