दवा जब असर ना करे, त…

दवा जब असर ना करे, तो नज़रें उतारती है,

माँ है ज़नाब, इसे हार कहाँ मानती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *