चिरागे शाम हूँ जुल्म…

चिरागे शाम हूँ जुल्मत में भी मुस्कराऊंगा

मुझे सम्भाल कर रखना मैं वक्त पर हमेशा काम आऊंगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *