लाख जमाने भर की डिग…

लाख जमाने भर की “डिग्रीयाँ” हो तुम्हारे पास
छलकते आँसू माँ बाप के आखों के न पढ़ पाये तो “अनपढ़” हो तुम…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *