हम भी गोया किसी साज़…

हम भी गोया किसी साज़ के तार हैं
जब चोट खाते हैं, तभी गुनगुनाते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *