दिल से बड़ी कोई क़ब्र…

दिल से बड़ी कोई क़ब्र नहीं है,

रोज़ कोई ना कोई

     एहसास दफ़न होता है...॥

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *