दिल भी इक ज़िद पे अड…

दिल भी इक ज़िद पे अड़ा है
किसी बच्चे की तरह…
या तो सब कुछ ही इसे चाहिए
या कुछ भी नहीं..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *