जिद्दी परिंदा

इंसान ख्वाइशों से बंधा हुआ एक जिद्दी परिंदा है,
उम्मीदों से ही घायल है और
उम्मीदों पर ही जिंदा है…!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *