एहसान

एहसान वो किसी का लेता नहीं, मेरा भी चुका दिया..

जितना खाया था नमक उसने, मेरे जख्मों पर लगा दिया !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *