परख साक़ी की

नशे मे चूर हैं पर परख तब भी है हमे साक़ी की
आखिर प्यार से पिलाना भला और किसे आता है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *