मैं !!

न शिकवा न गिला किसी से है
बात इतनी सी है
मैं ज़माने को
और ज़माना मुझको समझ न पाया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *