जब लगा था खँजर, तो …

जब लगा था खँजर,
तो इतना दर्द ना हुआ..

जख्म का एहसास तो तब हुआ,
जब चलाने वाले पे नजर पड़ी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *