शायरब

अभी गनीमत है सब्र मेरा,
अभी लबालब भरा नही हूँ ….
वो मुझको मुर्दा समझ रहा है,
उसे कहो….. मैं मरा नही हूँ …..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *