जज़्बात कहते हैं खाम…

जज़्बात कहते हैं खामोशी से बसर हो जाए;

दर्द की ज़िद्द है की दुनिया को खबर हो जाए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *