हर नजर में मुमकिन न…

हर नजर में
मुमकिन नहीं है
बेगुनाह रहना,

कोशिश करता हूँ
कि खुद की नजर में
बेदाग रहूँ ….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *