इश्क का ख्वाब—-

इश्क का जिसको ख्वाब आ जाता है,
समझो उसका वक़्त खराब आ जाता है,
महबूब आये या न आये,
पर तारे गिनने का हिसाब आ जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *