मेरी यादों की कश्ती …

मेरी यादों की कश्ती उस समुन्दर मेँ तैरती हैं

जिस में पानी मेरी अपनी पलको का ही होता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *