ज़िन्दगी रोज़ कोई ता…

ज़िन्दगी रोज़ कोई ताज़ा सफ़र मांगती है

और थकान शाम को अपना घर मांगती है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *