हद-ए-शहर से निकली तो…

हद-ए-शहर से निकली तो गाँव गाँव चली,
कुछ यादें मेरे संग पाँव पाँव चली ।

सफ़र जो धूप का किया तो तजुर्बा हुआ,
वो जिंदगी ही क्या जो छाँव छाँव चली ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *