बेज़ुबां महफिल…

बेज़ुबां महफिल में शोर होने लगा..

ना जाने कौन पढ़ गया ख़ामोशी मेरी..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *